Monthly Archives: March 2020

एक औरत ने मुझे

एक औरत ने मुझे जन्म देकर जीने का मौका दिया स्नेह अमृत बरसाया मुझ पर वो मां थी….मेरा खुदा ! एक औरत ने मुझे उंगली थामकर चलना सिखलाया जब मां और कहीं थी तब माँ वही थी सबसे बचाती थी … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

नारी

मनुस्मृति कहती है.. यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवताः यत्रेतास्तु न पूज्यन्ते सरवास्तत्राफला: क्रियाः जहाँ स्त्रियां पूजी जाती हैं वो फिजा देवमयी हो जाती है जो न करते सम्मान उनका हर चाहत उनकी धूमिल हो जाती है तेरे बगैर कल … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment