Monthly Archives: July 2019

हमसे न हो सका

ज़माने भर का दिखावा हमसे न हो सका ओढ़ कर बनावट जी रही है दुनियाँ दर्द को छुपाकर बेवजह मुस्कुराना हमसे न हो सका जो बात थी दिल में बेलाग बोल दी ना को हाँ बनाना हमसे न हो सका … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

बादल को घिरते देखा है

आनंद का रास रचाने आये शब्द समूहों को गुँथे हुए मन के धागों में पंख फैलाये भावों को किलकारी भरते देखा है बादल को घिरते देखा है उमड़ घुमड़ मन का प्रवाह बह जाने का शंखनाद करे लहरें ले लेकर … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment