Monthly Archives: April 2017

गुलाब जिंदगी ?

हर पल खुशियां नृत्य, रास हंसी के छल्ले खिलते चेहरे.. जिंदगी यहीं तक नहीं ! गुलाब जिंदगी काँटों का अहसास तीखी तो कभी मीठी वेदना अव्यक्त भय पलटते मोहरे और बदलते चेहरे यही है..जिंदगी !! 🌿 #अलफ़ाज़_मेरे

Posted in Uncategorized | Leave a comment

आशीर्वाद की अनुभूति~

(7 अप्रैल 2017) बीती रात मुझे पूरे समय नींद नहीं आई। हाँ तड़के कोई 4 बजे बाद कोई आँख लगी होगी। लेकिन आँख लगने के बाद जो मैंने स्वप्न में देखा तो अब तक पछता रहा हूँ कि मेरी आँख … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment