Monthly Archives: March 2017

सिक्के का दूसरा पहलू

पूरा परिवार दूरदर्शन में ऑंखें गड़ाए कपिल शर्मा के शो में डूबा हुआ था कि अचानक बिजली गुल हो गई। निराशाओं के स्वर फूटने लगे! कोई ‘धत तेरे की’, कोई ‘मर गए’, कोई ‘ओ तेरी ! ‘…जैसे शब्दों के माध्यम … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

दरारें

आज शाम अपने किसी ख़ास जन से मुलाक़ात हेतु उनके निवास स्थान तक गया था। चूंकि वहां अक्सर आना जाना होता है अतः औपचारिकता को कहीं जगह नहीं है। बैठे हुए टेबल पर एक कार्ड पर नजर पड़ी। कार्ड विवाह … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment